Nematode control

Nematode control: नेमाटोड की समस्या और इसका नियंत्रण

किसान भाइयों नमस्कार, स्वागत है BharatAgri Krushi Dukan वेबसाइट पर। किसानों के लिए फसलों की सुरक्षा में बहुत ही महत्वपूर्ण एक पहलुओं में से एक है, और आप को पता ही होगा की नेमाटोड फसल को पूरी तरह बर्बाद कर देता हैं जिससे सीधे किसानों की आय प्रभावित होती हैं।  इस ब्लॉग में नेमाटोड की समस्या का समाधान करने के लिए कुछ प्रमुख तकनीकी और वैज्ञानिक उपाय हैं, जिनमें नेमाटोड को मारने की दवाओं (Nematode control) की सम्पूर्ण जानकारी दी हैं।  


फसल में नेमाटोड की समस्या | Nematode problem in crops

नेमाटोड एक सूक्ष्मजीव है, जिसका शरीर पतले धागों की तरह होता है और इसे सूक्ष्मदर्शी से देखा जा सकता है। इसका शरीर लंबा, बेलनाकार, और खंडों के बिना होता है। मादा गोलाकार होती है जबकि नर सर्पिलाकार आकृति के होते हैं। इनका आकार 0.2 मिमी से 10 मिमी तक हो सकता है।

नेमाटोड या सूत्रकृमियों में प्रमुख रूप से फसल परजीवी सूत्रकृमि है, जो मृदा में या पौधे की उत्तकों में रहते हैं। ये जड़ गांठ सूत्रकृमियों के विभिन्न फसलों पर प्रकोप में प्रमुख भूमिका निभाते हैं। इनमें मुख्य रूप से जड़ों में गांठों का विकास होता है, जिससे पौधे की पोषण शक्ति कम होती है और पौधा कमजोर हो जाता है।


नेमाटोड का प्रकोप | Nematode issue in crop 

नेमाटोड पौधों की जड़ों से रस चूसते हैं, जिससे पौधों को मिट्टी से उर्वरक, पानी या पोषक तत्वों की पूरी मात्रा नहीं मिलती है, और पौधे की वृद्धि रुक ​​जाती है। नेमाटोड के कारण जड़ों में गांठ बन जाती है, जिससे पौधे की वृद्धि रुक ​​जाती है और पौधा नष्ट हो जाता है।


नेमाटोड के प्रभाव | Effects of Nematodes 

नेमाटोड कीट की महामारी से सभी प्रकार की फसलें प्रभावित हो सकती हैं, जैसे कि जड़ गांठ रोग, पुट्टी रोग, नीबू मुरझा रोग, जड़ सड़न रोग, और जड़ फफोला रोग। यह फलों वाले पौधों को भी प्रभावित कर सकता है, जैसे कि अनार, नींबू, संतरा, अमरूद, अंजीर, किन्नू, अंगूर, आदि।


नेमाटोड के लक्षण | Nematode Symptoms 

नेमाटोड के प्रकोप के लक्षण में फसलों की जड़ों का प्रभावित होना और पौधों की वृद्धि में रुकावट शामिल हैं। पौधों की पानी और पोषक तत्वों को अवशोषित करने की क्षमता कम हो जाती है, जिससे पौधे कमजोर हो जाते हैं। जड़ों में गांठ बन जाती है, जिससे फलों की संख्या में कमी हो सकती है।


नेमाटोड का नियंत्रण | Nematode control 

नेमाटोड को नियंत्रित करने के लिए नीम की खाद, नीम पाउडर, और नीम केक का उपयोग किया जा सकता है। नीम के तेल का ड्रिप द्वारा भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा, बायोलॉजिकल नियंत्रण उपायों का भी प्रयोग कर सकते हैं, जैसे कि जैविक नियंत्रण एजेंट्स और फसल सुरक्षा के उपाय।


नेमाटोड का जैविक नियंत्रण | Biological control of nematodes 

जैविक नियंत्रण के लिए नीम की खाद का इस्तेमाल किया जा सकता है, जो नेमाटोड को नष्ट करने में मदद कर सकता है। नीम केक और नीम पाउडर को भी मिट्टी में मिला कर इस्तेमाल किया जा सकता है। यह फसलों को स्वस्थ रखने में मदद करता है और नेमाटोड की संख्या को कम कर सकता है।


नेमाटोड को नियंत्रित करने वाले बेस्ट कीटनाशक | Top 5 nematicides 

प्रोडक्ट का नाम 

प्रोडक्ट कंटेंट 

कंपनी का नाम 

उपयोग मात्रा ड्रिप या ड्रेंचिंग 

डॉ. बैक्टोज़ नेमोस

पेसिलोमाइसेस लिलासिनस

आनंद एग्रो 

500 मिली/एकड़ 

नेमास्टिन

ट्राइकोडर्मा हार्ज़ियानम 1% डब्लू.पी

कैनबियोसिस 

2 किलो/एकड़ 

नेमाटोड्स प्लस

वर्टिसिलियम क्लैमाइडोस्पोरियम

कात्यायनी 

2 किलो/एकड़ 

निमित्ज 

फ़्लुएनसल्फोन 2% जीआर

एडामा 

खीरा, भिंडी, टमाटर - 1 ग्राम/पौधा 

शिमला मिर्च - 1.5 ग्राम/पौधा 

अनार - 10 ग्राम/ड्रिपर

वेलम प्राइम

फ्लुओपाइरम 34.48% एससी

बायर 

300 मिली/एकड़ 


नोट - फसल में नेमेटोड की समस्या अनुसार बताये गए किसी एक कीटनाशक का उपयोग करें।  


सारांश | conclusion -

चलिए दोस्तों, आपको हमारी Nematode control की जानकारी कैसे लगी ये कमेन्ट बॉक्स में जरूर बताए। और अगर यह जानकारी आपको सच में पसंद आती है तो इसे आपके अन्य किसान ग्रुप में शेयर जरूर करें। ऐसे ही खेती के बारें में अलग-अलग जानकारी पढ़ने के लिए हमारे BharatAgri Krushi Dukan वेबसाईट को जरूर भेंट दें। मिलते है अगले एक नए विषय और एक नई जानकारी के साथ, तब तक के लिए धन्यवाद🙏🙏🙏


FAQ | बार - बार पूछे जाने वाले सवाल -


प्रश्न: नेमाटोड से फसल को कैसे बचाएं?

उत्तर: नेमाटोड के खिलाफ उपयुक्त नीति और नीम के प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें।

प्रश्न: नेमाटोड संक्रमण के लक्षण क्या होते हैं?

उत्तर: नेमाटोड संक्रमण के लक्षण में जड़ों में गांठें और पौधों की वृद्धि में रुकावट शामिल होती है।

प्रश्न: कौन-कौन सी फसलें नेमाटोड के लिए संवेदनशील होती हैं?

उत्तर: नेमाटोड कई फसलों में प्रभावित हो सकता है, जैसे कि अनार, नींबू, बैंगन, टमाटर, और भिंडी।

प्रश्न: कैसे नेमाटोड को बायोलॉजिकल तरीके से नष्ट किया जा सकता है?

उत्तर: बायोलॉजिकल नियंत्रण एजेंट्स और जैविक उपायों का उपयोग करें, जैसे कि वर्टिसिलियम क्लैमाइडोस्पोरियम।

प्रश्न: नेमाटोड के प्रकोप से कैसे बचा जा सकता है?

उत्तर: सही बीजों का चयन करें और जैविक नियंत्रण उपायों का प्रयोग करें।

प्रश्न: नेमाटोड के लिए नीम का उपयोग कैसे करें?

उत्तर: नीम की खाद, नीम पाउडर, और नीम केक का मिश्रण मिट्टी में मिलाकर इस्तेमाल करें।

प्रश्न: फसल में नेमाटोड के नियंत्रण के लिए बेस्ट कीटनाशक?

उत्तर: नोमिट्ज, डॉ. बैक्टोज़ नेमोस, नेमास्टिन, वेलम प्राइम, और फ्लुएनसल्फोन।

प्रश्न: नेमाटोड के लिए जैविक नियंत्रण के लिए कौन-कौन से एजेंट्स प्रयुक्त हो सकते हैं?

उत्तर: वर्टिसिलियम क्लैमाइडोस्पोरियम, बैक्टीरियल नेमाटोड प्रेडेटर्स, और नीम के उत्तेजक।


Farmer also read | किसानों द्वारा पढ़े जाने वाले लेख - 


1. chilli varieties: मिर्च की उन्नत किस्मे जो देगी आपको डबल उत्पादन

2. गन्ने की फसल में 100 टन उपज देने वाली उर्वरक की मात्रा

3. Syngenta Alika: सिंजेंटा अलिका कीटनाशक की सम्पूर्ण जानकारी

4. ridomil gold: सिंजेंटा रिडोमिल गोल्ड फफूंदनाशी की सम्पूर्ण जानकारी

5. tomato leaf blight: टमाटर झुलसा रोग के लक्षण, प्रसार और नियंत्रण



लेखक - 


BharatAgri Krushi Doctor

Back to blog

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.


होम

फसल जानकारी

VIP

केटेगरी

आर्डर