Eliminate insects in okra with EM 1 insecticide

EM 1 कीटनाशक से करें भिंडी में कीटों का सफाया!

भिंडी भारत में एक लोकप्रिय सब्जी वाली फसल है, जो पूरे साल उगाई जाती है। भिंडी की फसल से आप मोटी कमाई कर सकते हो लेकिन कई प्रकार के कीट भिंडी की फसल पर हमला करते हैं, जिनमें से सबसे खतरनाक शूट और फ्रूट बोरर, लीफहॉपर, व्हाइटफ्लाई, रेड स्पाइडर माइट, सोलनोप्सिस मिलीबग और रूट-नॉट नेमाटोड हैं, जिससे फसल के विकास और उत्पादकता में काफी ज्यादा नुकसान होता है। 

भिंडी फसल को कीटों के  क्षति से बचाने के लिए इस लेख में कीटों की पहचान, कीटों के क्षति के प्रकार, भिंडी में कीटों का उपचार, भिंडी में कीट नियंत्रण (major pest of okra), भिंडी की कीटनाशक दवा (best insecticide for okra), भिंडी में सफेद मक्खी का नियंत्रण, भिंडी में लाल मकड़ी की दवा, भिंडी की फल छेदक इल्ली (bhendi fruit borer) आदि जानकारी का वर्णन किया गया है। 

 

भिंडी में कीटों के कारण हो रहा है उत्पादन कम | Okra productivity is declining due to pests.

अन्य देशों की तुलना में, कीटों, बीमारियों और सूत्रकृमियों के कारण होने वाली फसल हानि के कारण भारत में भिंडी उत्पादकता कम है। 72 से अधिक कीट फसल पर हमला करते हैं, इसे अंकुरण से लेकर कटाई के चरण तक संक्रमित करते हैं। तना और फल छेदक (इरियास विटेला), फल छेदक (हेलिकोवर्पा आर्मीगेरा), पत्ती घुमाने वाला (साइलेप्टा डेरोगाटा), पत्ती फुदका (अमरास्का बिगुट्टुला बिगुट्टुला), सफेद मक्खी (बेमिसिया टैबासी), एफिड (एफिस गॉसिपी), सोलेनोप्सिस मिली बग (फेनाकोकस सोलेनोप्सिस) , डस्की कॉटन बग (ऑक्सीकेरेनस हयालिनिपेनिस), रेड कॉटन बग (डिस्डरकस कोएनिगी), रेड स्पाइडर माइट (टेट्रानाइकस यूर्टिका), और रूट-नॉट नेमाटोड (मी इन्कॉग्निटा) कुछ महत्वपूर्ण कीट हैं जो भिंडी की फसल को नुकसान पहुंचाते हैं। 

भिंडी फल छेदक इल्ली  | Okra Shoot and fruit borer 

भिंडी की फसल में लगने वाले कीट प्ररोह और फल छेदक कीटों के पंख होते हैं जो लगभग 2.5 सें.मी. चौड़े होते हैं और आगे के पंखों के बीच में एक पतली, हल्की अनुदैर्ध्य हरी पट्टी होती है। पूर्ण विकसित सुस्त-हरे रंग के कैटरपिलर 2 सेमी लंबे होते हैं जिनमें छोटे कड़े ब्रिसल्स होते हैं और शरीर पर अनुदैर्ध्य काले बिंदुओं का एक पैटर्न होता है।

फल छेदक कीट का जीवन चक्र | Life cycle of Okra fruit borer

 मादा कीट भिंडी के फूलों की कलियों और कमजोर पत्तियों पर प्रति रात 200-400 अंडे देती है। अंडों का रंग आसमानी नीला होता है। अंडे 3-4 दिनों में निकलते हैं, और 10-16 दिनों में परिपक्वता तक पहुंचने से पहले कैटरपिलर 6 चरणों से गुजरता है। पतंगे 8-14 दिनों के भीतर पौधों पर, रोगग्रस्त फल के बाहर, या गिरी हुई पत्तियों के बीच नाव के आकार के कोकून में जमीन पर प्यूपा बनने के बाद निकलते हैं। फल छेदक कीट का पूरा जीवन चक्र पूरा होने में 17-29 दिन लगते हैं। 

भिंडी में फल छेदक कीट के लक्षण | Symptoms of fruit borer in okra

बारिश के बाद नम स्थितियों में फल छेदक सबसे अधिक पाए जाते हैं। वयस्क मादा पत्तियों, फूलों की कलियों और नाजुक फलों पर अलग-अलग अंडे देती है। छोटे भूरे रंग के कैटरपिलर शीर्ष कोमल टहनियों में छेद कर देते हैं और मुख्य अक्ष को नीचे की ओर सुरंग बना लेते हैं, जिससे यह मुरझा जाता है, गिर जाता है और बढ़ते बिंदु मर जाते हैं। बाद में, वे फलों में छेद कर देते हैं और अंदर से खाते हैं। दूषित फल खाने के अयोग्य हो जाते हैं।

EM1 कीटनाशक से करें भिंडी में कीटों का नियंत्रण | Control pests in okra with EM1 insecticide

किसान भाइयों धानुका कंपनी का इमामेक्टिन बेंजोएट (EM 1 insecticide) सबसे best insecticide है,  यह कीटनाशक सिस्टेमिक और कॉन्टेक्ट दोनों ही तरह से फसल पर कार्य करता है, यह एक दानेदार कीटनाशक होता है।  यह सेव जैसे नमकीन की तरह दिखाई देता है, और आसानी से पानी में घुल जाता है।  

ई.एम-1 Avermectin समूह का एक आधुनिक कीटनाशक है। EM -1 insecticide का उपयोग फसल में लगे इल्लियों के नियंत्रण के लिए आसानी पूर्वक किया जाता है, क्योकि यह सेव जैसे पानी में आसान रूप से घुलने वाला दानेदार कीटनाशक है। ई.एम-1 के छिड़काव के दो घण्टे बाद ही सूंड़ी द्वारा फ़सल को नुकसान पहुँचाना बंद हो जाता है। और इसी के साथ ई.एम-1 एकीकृत कीट प्रबंधन (आइ.पी.एम.) के लिए भी एक अनुकूल कीटनाशक है।

इमामेक्टिन बेंजोएट कैसे करता है कीटों को नियंत्रित | How does emamectin benzoate control pests

इमामेक्टिन बेंजोएट (EM1 कीटनाशक) लेपिडोप्टेरोन कीटों को नियंत्रित करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक एवरमेक्टिन-श्रेणी कीटनाशक है। इस कीटनाशक वर्ग में स्ट्रेप्टोमीस जीवाणु किण्वन उत्पादों से उत्पन्न होमोलॉगस सेमी-सिंथेटिक मैक्रोलाइड्स होते हैं। 

यह न्यूरोट्रांसमीटर के साथ हस्तक्षेप करके कीटों को मारता है, जिसके परिणामस्वरूप अपरिवर्तनीय पक्षाघात होता है। खाने में तो यह ज्यादा असरदार होता है, लेकिन त्वचा पर लगाने पर यह थोड़ा फायदेमंद भी होता है। 

इमामेक्टिन बेंजोएट पत्ती के ऊतकों में प्रवेश करता है और उपचारित पत्तियों के भीतर एक जलाशय स्थापित करता है, जो कीटों के खिलाफ लगातार गतिविधि प्रदान करता है जो खाने के दौरान रसायन का सेवन करते हैं।

EM 1 कीटनाशक की उपयोग मात्रा | EM 1 Insecticide Dose 

  • 0.5 ग्राम/लीटर पानी
  • 10 ग्राम/पंप (15 लीटर पंप )
  • 100 ग्राम/एकड़ छिड़काव करें

फसल सम्बंधित जानकारी के लिए इन्हे भी पड़े और करें कम लागत में ज्यादा उत्पादन 

किसान भाइयों आप से निवेदन है की अगर आप को ये आर्टिकल अच्छा लगा होगा तो कमेंट में अपनी राय देना न भूले और आगे आप को फसल संबंधित कोई और जानकारी चाहिए तो कमेंट में सुझाव दें।

 

Back to blog

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.


होम

वीडियो कॉल

VIP

फसल जानकारी

केटेगरी