cotton variety in india

cotton variety: कपास की टॉप 10 वैरायटी

नमस्कार किसान भाइयों, आपका Bharatagri Krushi Dukan वेबसाइट पर स्वागत है। आज हम इस लेख में, कपास की किस्में के विशेषताओं के बारे में जानेंगे, जिसमें बोने का सही समय, प्रति एकड़ उत्पादन, कीटों और बीमारियों के प्रति सहनशीलता और फसल अवधि जानकारी शामिल है। यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो कृपया इसे अपने किसान मित्रों के साथ शेयर करें।


कपास के बारे में जानकारी | Information About Cotton - 

भारत देश में गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान और मध्य प्रदेश इन राज्यों में कपास अधिक बोया जाता है। वर्तमान में, अधिकांश किसान बीटी cotton variety उगा रहे हैं, जीईसी द्वारा लगभग 250 अनुमोदित किस्मों को हमारे राज्य में विभिन्न जातियों में लगाया जा रहा है। बीटी कपास की प्रजातियाँ दो प्रकार की होती हैं - बीजी-1 और बीजी-2। बीजी-1 किस्में तीन प्रकार के डेंडोलू बेधक कैटरपिलर के प्रति प्रतिरोधी हैं - चित्तीदार कैटरपिलर, गुलाबी डेंढू बेधक और अमेरिकी डेंढू बेधक। इसके अतिरिक्त, बीजी-2 किस्में तंबाकू के कैटरपिलर से भी रक्षा करती हैं।


कपास की वैरायटी के विशेषताएँ - 

नीचे पॉइंट में Variety of Cotton के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है। 

1. अजीत- 177 | Ajit- 177 -

->यह कपास की वैरायटी 140-160 दिन तक उत्पादन देती है।

->लाल्या रोग के प्रति अत्यधिक सहिष्णु और रस चूसने वाले कीट के प्रति मध्यम रूप से सहनशील।

->सिंचित और वर्षा आधारित खेती के लिए उपयुक्त।

->एक बॉल/टिंडे का वजन - 6.0-6.5 ग्राम होता है। 

->पौधे की ऊंचाई - 145-155 सेमीहै।  

->जिनिंग (%) : 36.5-37.5

 

2. अजीत- 155 बीज | Ajit- 155 seed -

->यह कपास की वैरायटी 140-150 दिन तक उत्पादन देती है।

->लाल्या रोग और रस चूसने वाले कीट के प्रति अत्यधिक सहनशील किस्म है। 

->वर्षा आधारित तथा सिंचित खेती के लिए उपयुक्त।  

->एक बॉल/ टिंडे का वजन - 5.0-5.5 ग्राम होता है। 

->पौधे की ऊंचाई - 145-155 सेमीहै।  

->जिनिंग (%) : 37.0-38.0 


3. रासी आरसीएच 846 बीज | Rasi RCH 846 Seed -

->यह कपास की वैरायटी 140-145 दिन तक उत्पादन देती है।

->कीट और रोगों के प्रति बेहतर सुरक्षा देता है।  

->जल्दी परिपक्वता अवधि वाली किस्म मानी जाती है। 

->कम समय में ज्यादा पैदावार यानि लगभग एक एकड़ में 10-12 / qtl 

->बड़े टिंडे/बॉल का आकर, चुनाई के लिए आसान 

->अनुशंसित राज्य : पंजाब, हरियाणा, राजस्थान में आप बुवाई कर सकते हैं। 

 

4. रासी RCH 659 बीज | Rasi RCH 659 Seed -

->यह कपास की वैरायटी 145-160  दिन तक उत्पादन देती है।

->वर्षा और सिंचित अवस्था में चोबाई कर सकते हैं।  

->बोल वजन 5.5-6 ग्राम/टिंडा 

->खुला पौधा और चुनाई के लिए आसान है। 

->अनुशंसित राज्य: कर्नाटक, आंध्र, तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और गुजरात में आप बुवाई कर सकते हैं।


5. रासी RCH 926 बीज | Rasi RCH 926 seed -

->लीफ कर्ल वायरस के अधिक सहनशील किस्म है। 

->वर्षा और सिंचित क्षेत्र के लिए उपयुक्त वैरायटी है। 

->बोल (टिंडे) का आकार बढ़ा और चुगाई में आसान है। 

->बोल वजन 5.5-6 ग्राम/टिंडा 

->अनुशंसित राज्य : पंजाब, हरियाणा, राजस्थान में आप बुवाई कर सकते हैं।


6. नुजिविदु टैलेंट- 9013 बीज | Nuziveedu Talent 9013 Seed -

->रस चूसक कीट के प्रति अत्यधिक सहनशील किस्म है।

->पौधे की ऊंचाई - 145-155 सेमी है।  

->जल्दी पकने से गुलाबी डेंढू बेधक(pink bollworm)की समस्या आती नहीं है।  

->टिंडे की साइज़ बहुत बढ़ी और चुनाई के लिए आसान। 

->अनुशंसित राज्य : पंजाब, हरियाणा, राजस्थान में आप बुवाई कर सकते हैं।

 

7. नुजिविदु आशा NCS 9011 बीज | Nuziveedu Asha NCS 9011 Seed -

->वर्षा आधारित तथा सिंचित खेती के लिए उपयुक्त।

->टिंडा अच्छा खुलता जिससे चुनाई करना आसान हो जाता है। 

->जिनिंग % :34-35

->टिंडे का वजन - 6-7 ग्राम / प्रति टिंडा  

->रास चूसक कीट जिसमें जैसिड्स, थ्रिप्स और सफ़ेद मक्खी के प्रति मध्यम सहनशील

->अनुशंसित राज्य : आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, दक्षिण राजस्थान, तमिलनाडु और तेलंगाना में आप बुवाई कर सकते हैं।

 

8. नुजिविदु विनय NCS 855 बीज | Nuziveedu Vinay NCS 855 Seed -

->पौधे की ऊंचाई - 150 -160 सेमी है।

->अधिक लंबा और खुला पौधा होता है। 

->रस चूसक कीट के प्रति अत्यधिक सहनशील किस्म है।

->टिंडे की साइज़ बहुत बढ़ी और चुनाई के लिए आसान। 

->अनुशंसित राज्य : पंजाब, हरियाणा, राजस्थान में आप बुवाई कर सकते हैं।

 

9. क्रिस्टल SP 7272 बीज | Crystal SP 7272 Seed -

->यह कपास की वैरायटी 160-170 दिन तक उत्पादन देती है।

->कपास की पत्ती मुड़ाव और सफेद मक्खी के प्रति अधिक सहनशील है। 

->बोल जल्दी ओपन होने के कारण चुनाई आसानी से हो जाती है। 

->खुला और सीधा पौधा होता है। 

->अनुशंसित राज्य : पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में आप बुवाई कर सकते हैं।

 

10. क्रिस्टल अव्वल बीज | Crystal Avval seed -

->यह कपास की वैरायटी 160-170 दिन तक उत्पादन देती है।

->वर्षा और सिंचित क्षेत्र में बुवाई कर सकते हैं।  

->पौधों की अच्छी ऊंचाई के साथ बड़े टिंडे वाली किस्म है।  

->लास्ट तक रस चूसक कीटों के प्रति सहनशील किस्म है। 

->अनुशंसित राज्य : पंजाब और हरियाणा के मध्यम अवधि के कपास उत्पादक क्षेत्र के लिए उपयुक्त


कपास के लिए जमीन और बीज दर -

कपास की उन्नत किस्में के उत्पादन के ऐसी मिट्टी चुनें जो पानी को अच्छी तरह से धारण करती हो। यदि मिट्टी में बहुत अधिक नमी है और भूमि जलमग्न है, तो इसका कपास की फसल पर प्रभाव पड़ता है। आवश्यक सामू - 7.0-8, यदि सामू 7.0 से कम है तो मिट्टी में चूना पत्थर मिलाएं। यदि यह 8.5 से अधिक है तो मिट्टी में जिप्सम डालें।

बीज दार देखा जाए तो - 475 ग्राम के 2 पैकेट/ एकड़ बुवाई करें। 


Conclusion | सारांश -

किसान भाइयों हमें उम्मीद है की cotton variety से सम्बंधित यह लेख आपको पसंद आया होगा। यदि आपको कपास के प्रकार इस सम्बंधित कुछ सुझाव या प्रश्न हैं तो हमें कमेंट बॉक्स में बताएं। साथ ही इस लेख को अपने अन्य किसान दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें। खेती संबधित अन्य जानकारी को पढ़ने या फिर समझने के लिए हमारे भारतअग्री कृषि दुकान के साथ जुड़ें रहे।


कपास की किस्में इससे सम्बंधित अक्सर पूछे जानें वाले प्रश्न | FAQ -


1. कपास की सबसे अच्छी किस्म कौन सी है?

जवाब - अजीत 155, अजीत 177, रासी 659, आशा NCS 9011 आदि कपास के किस्म अच्छे हैं।

2. कपास कितने प्रकार के होते हैं?

जवाब - कपास देसी और हाइब्रिड दो प्रकार की होती है।

3. सबसे बढ़िया नरमे का बीज कौन सा है?

जवाब - रासी 659 सबसे बढ़िया बीज है।  

4. कपास में कौन सा राज्य नंबर 1 है?

जवाब - कपास में गुजरात राज्य एक नंबर पर है।  

5. एक एकड़ के लिए कपास का कितना बीज चाहिए?

जवाब - लगभग बुवाई के 950 ग्राम/ एकड़ यानि 475 ग्राम के 2 पैकेट लगते हैं।  


इन्हे भी पढ़ें | People also ask - 

1. कपास की उन्नत किस्में: kapas ka beej जो देगा आपको 20 क्विंटल तक उत्पादन

2. haldi ki kheti: हल्दी की खेती, एक एकड़ से निकाले 250 से 300 क्विंटल उपज

3. Yellow vein mosaic of bhindi: भिंडी का पीला मोजेक वायरस और नियंत्रण

4. tomato fertilizer schedule: जाने टमाटर में कौन सी खाद डालें

5. kocide fungicide: कोसाइड फंगीसाइड की संपूर्ण जानकारी



लेखक | Author - 

भारतअग्रि कृषि एक्सपर्ट

कमेंट करें


होम

वीडियो कॉल

VIP

फसल जानकारी

केटेगरी