dhaniya ki kheti: धनिया की खेती की संपूर्ण जानकारी

dhaniya ki kheti: धनिया की खेती की संपूर्ण जानकारी

नमस्कार किसानों भाइयों भारतअग्री कृषि दुकान में आपका स्वागत है, क्या आप भी धनिया की खेती करना चाहते हैं और जानने चाहते हैं कि धनिया की खेती कैसे करें और किस तरह से धनिया की खेती करके लाखों में आमदानी बढ़ाएं तो आप सही जगह हैं, क्योंकि आज हम इस लेख के माध्यम से धनिया की खेती के बारे में सम्पूर्ण जानकारी जानेंगे। 

धनिया की खेती करना एक लाभकारी व्यवसाय हो सकता है, परंतु इसमें उत्तम मौसम, सही समय पर बुवाई, खेती करने का तरीका, सिंचाई, खाद की मात्रा, खरपतवार नियंत्रण, फसल संरक्षण और उत्पादन का ध्यान रखना आवश्यक है। चलिए आगे बढ़ते हैं और धनिया की खेती के बारे में सभी आवश्यक विवरण जानते हैं।

 

धनिया की खेती | Coriander Farming Details  -

मसाला फसलों में धनिया का एक विशेष स्थान है। इसकी खुशबू और स्वाद के कारण इसका लगभग सभी सब्जियों के साथ उपयोग किया जाता है। धनिया की फसल सिर्फ 45 से 50 दिनों में ही तैयार हो जाती है, और इसके तत्काल बाद ही किसान भाइयों की कमाई शुरू होती है। उन्नत और हाइब्रिड किस्म के बीज से लगभग 2  से 3  बार धनिया की कटाई की जा सकती है। साथ ही मसाला फसलों में Dhaniya Ki Kheti करना अत्यधिक फायदेमंद माना जाता है, क्योंकि इसकी खेती करने के लिए कम लागत और कम समय लगता है। यह फसल बहुत जल्दी तैयार हो जाती है और मुनाफा भी अच्छा होता है।


Dhaniya Ki Kheti के बारे में संक्षिप्त विवरण -

जमीन

सभी प्रकार की भूमि पर धनिया की खेती की जा सकती है, परन्तु धनिया की खेती में वह जमीन अत्यधिक उपयुक्त मानी जाती है जहाँ पानी का PH मान 6-8 के बीच हो और अधिक ड्रेनेज हो। 

तापमान 

20 - 25 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर धनिया की अच्छी ग्रोथ होती है। 

बीज दर

बीज  -10 -15 किग्रा/ एकड़ ,

देशी - हरी पतियों - 30 -40 किग्रा/ एकड़ 

हाइब्रिड धनिया  - 7 - 8 kg/ एकड़ 

वैरायटी

गौरी , RCR -684 , कास्ति, सी एस 6, jd -1, जलगांव धना, हिसार सुगंध,व्ही - 1,व्ही -2 आदि 

बुवाई का सही समय

बीज के लिए -  खरीफ और रबी 

हरी धनिया  - सभी ऋतु में 

बुवाई की विधि

धनिया की बुवाई मशीन एवं हाथों दोनों माध्यम से की जा सकती है या
जमीन पर फैलाकर रोटावेटर से मिक्स करें। 

बीज अंतर 

20 x 15 सेमी 

फसल की अवधि

हरी पत्तियां आने की अवधि  - 45 -50 दिनों में पहली कटाई 

बीज तैयार होने की अवधि - 110 -120 दिनों में बीज तैयार।

 

धनिया की खेती के लिए बेसल डोज -

24:24:00/ 20:20:00/ 18:46:00 - 50 किलो + पोटाश 25 किलो + ह्यूमिक एसिड - 5 किलो + जिंक सल्फेट 5 किलो और 30 दिनों बाद यूरिया - 20 किलो एक एकड़ के लिए डाल सकते हैं। 

नीचे दिए खाद 5 किलो प्रति एकड़ आप पानी अथवा ड्रिप से दे सकते हैं या 75 ग्राम/15 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें। 

उर्वरक खाद 

दिन में अंतर 

19:19:19

15 से 20  के बाद 

12:61:00

25 से 30 के बाद  

13:40:13

35 से 40 के बाद 

13:00:45

45 से 60 के बाद 

00:00:50

55 से 75 (10 दिन के बाद दुबारा कर सकते हैं) 

 

धनिया की खेती करने का तरीका -

1. धनिया की खेती करने के लिए सबसे पहले खेत की अच्छी तरह से गहरी जुताई करें। इसके बाद, खेत में प्रति एकड़ 5 से 6 गाड़ी सड़ी हुई गोबर की खाद का उपयोग करें। 

2. चाहें तो गोबर खाद के बाद उस समय बेसल डोज भी खेत में डाल सकते हैं। 

3. रोटावेटर की मदद से गोबर खाद और रासायनिक खाद के डोज को अच्छी तरह से मिट्टी में मिलाएं।

4. यदि आप हरी धनिया या बीज बनाने चाहते है तो उस हिसाब से धनिया की बुवाई करें।  

5. अगर आप गर्मी में धनिया की बुवाई करना चाहते हैं, तो पहले जमीन पर हल्की सिंचाई करें, जिससे बीज अंकुरण एक समान हो सके।

6. मिट्टी में नमी आने के बाद बुवाई करना शुरू कर सकते हैं। बुवाई करते समय बीजोपचार अवश्य करें। बीजोपचार प्रक्रिया में आप बाविस्टिन- 2 ग्राम + टाटा मिडा -1 मिली एक किग्रा बीज को लगाकर बुवाई करें। 

7. अंकुरण होने के बाद पानी, छिड़काव, और खाद पर ध्यान दें।


धनिया की खेती में खरपतवार नियंत्रण -

समय

छिड़काव सामग्री

बीज बुवाई के तुरंत बाद सूखी जमीन में

पेन्डामेथिलीन 38 % - 700 मिली/ एकड़

बीज बुवाई के तुरंत पानी देने के बाद जमीन में (48 घंटे से पहले )

1. पेन्डामेथिलीन 30 % - 1 लीटर/ एकड़ 

2. ऑक्सीफ्लोरोफेन 23.5 %- 60-80 मिली/ एकड़ 

 

धनिया के प्रमुख कीट और रोग  -

चलिए अब हम धनिया के प्रमुख कीट और रोग (Coriander Insects and Pest Details in Hindi) तथा उनके नियंत्रण के लिए उपयोगी उत्पादों के बारे में जानें -

कीट और रोग 

नियंत्रण उपाय

एफिड्स 

1. इमिडाक्लोप्रिड- 17.8% एसएल (कॉन्फीडोर) - 10 मिली 

अथवा 

2. थियामेथोक्सम -  25% डब्लू जी(अरेवा) - 10 ग्राम 15 लीटर पानी छिड़काव 

पाउडरी  मिल्ड्यू 

1.टेबुकोनाज़ोल 50%+ ट्राइफ्लॉक्सीस्ट्रोबिन 25%डब्लू जी(नटिवो)-10 ग्राम 

अथवा 

2.माइक्लोबूटानिल 10% डब्लू पी(इंडेक्स) 10 ग्राम  15 लीटर पानी छिड़काव

उकठा रोग 

1.मैनकोज़ेब 64% + मेटलैक्सिल 8% डब्ल्यूबी(टाटा मास्टर)-500 ग्राम 

अथवा

2.फोसेटाइल अल 80 डब्ल्यूपी(एलियट)  - 500 ग्राम @200 लीटर ड्रेंचिंग या पानी के साथ 

 

धनिया की खेती का उत्पादन  -

हरी धनिया - 4 से 5 टन / एकड़
बीज -15 -20 क्विंटल /एकड़

 

Conclusion | सारांश - 

किसान भाइयों हमें उम्मीद है Dhaniya Ki Kheti से सम्बंधित यह लेख आपको पसंद आया होगा। यदि आपको धनिया की खेती से सम्बंधित कुछ सुझाव या प्रश्न हैं तो हमें कमेंट बॉक्स में बताएं। साथ ही इस लेख को अपने अन्य किसान दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें। खेती संबधित अन्य जानकारी को पढ़ने या फिर समझने के लिए हमारे भारतअग्री कृषि दुकान के साथ जुड़ें रहे।


धनिया की खेती से सम्बंधित अक्सर पूछे जानें वाले प्रश्न  | FAQs - 

 

1. धनिया की खेती कौन से महीने में होती है?

जवाब - धनिया की खेती जून-जुलाई और अक्टूबर-नवंबर में महीने होती है।

2. एक एकड़ में कितना धनिया निकलता है?

जवाब - एक एकड़ में लगभग 15- 20 क्विंटल धनिया निकलता है। 

3. धनिया में कितने दिन में पानी देना चाहिए?

जवाब - देखा जाए तो जमीन के ऊपर निर्भर होता है परन्तु 8 से 10 दिनों में एक बार पानी दे सकते हैं। 

4. हरी धनिया कितने दिन में तैयार होती है?

जवाब - हरी धनिया 45 से 50 दिन में तैयार हो जाती है। 

5. धनिया के बीज बोने से पहले कितने समय तक भिगोते हैं?

जवाब - आप लगभग 12 से 24 घंटों तक भिगोकर रखें। 


People also read | इन्हे भी जरूर पढ़ें - 


1. castor varieties: अरंडी की उन्नत किस्मों के नाम और जानकारी

2. lavala weed control: ऊस पिकातील लव्हाळा तण नियंत्रण

3. गन्ने की फसल में 100 टन उपज देने वाली उर्वरक की मात्रा

4. Syngenta Alika: सिंजेंटा अलिका कीटनाशक की सम्पूर्ण जानकारी

5. soyabean pod borer: सोयाबीन फली छेदक कीट - पहचान, नियंत्रण और प्रबंधन


लेखक - 

भारतअग्रि कृषि एक्सपर्ट

Back to blog

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.


होम

वीडियो कॉल

VIP

फसल जानकारी

केटेगरी