Control of Paddy Blast Disease using Kasu B Fungicide

Kasu B Fungicide के उपयोग से Paddy Blast रोग का नियंत्रण

किसान भाइयों आप को बता दें कि मक्के की फसल के बाद धान एक ऐसी फसल है, जिसकी खेती भारत में सबसे ज्यादा की जाती है। धान एक ऐसी फसल है जिसका उत्पादन चावल के लिए किया जाता है, और आप सभी को पता है की चावल भारत में मुख्य भोजन के रूप में खाया जाता है। धान खरीफ मौसम की मुख्य फसलों में से एक है, इसकी खेती भारत के करोड़ों  किसानों द्वारा की जाती है और अच्छी मोटी कमाई की जाती है।  

किसान भाइयों की सालाना आय धान के अच्छे उत्पादन से बढ़ती है और इस फसल से किसान अच्छा उत्पादन ले कर अच्छी मोटी कमाई कर सकते हैं। जैसे की हमने आपको बताया की आप इस फसल से अच्छा उत्पादन लेकर पैसे कमा सकते हैं, लेकिन किसान भाइयों को धान की फसल में लगने वाले कीटों और रोगों की समस्या का सामना करना पड़ता है।  

धान की फसल में लगने वाले कीटों और रोगों की समस्या का नियंत्रण करना एक चुनौती है। हम बात कर रहे हैं धान की फसल में लगने वाले ब्लास्ट रोग के बारें में जो धान के उत्पादन को प्रति एकड़ 80 से 90% तक कम करता है। धान का ब्लास्ट रोग एक बार फसल को प्रभावित करता है तो इसको नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है।  

किसान भाइयों इस लेख में हम जानेंगे की धान की फसल में लगने वाले ब्लास्ट रोग का नियंत्रण धानुका कंपनी का कासु-बी कैसे करता है, और साथ ही धान के ब्लास्ट रोग के लक्षण, धान की फसल में ब्लास्ट से होने वाले नुकसान और सम्पूर्ण नियंत्रण की जानकारी भी इसी लेख में जानेंगे।

धान का ब्लास्ट रोग | Rice blast disease

राइस ब्लास्ट के लक्षणों में पौधे के सभी हिस्सों पर इस इस रोग के धब्बे दिखाई देते हैं। जिनमें पत्तियां, पत्ती कॉलर, गर्दन, पुष्पगुच्छ, डंठल और बीज शामिल हैं। हाल के एक अध्ययन के अनुसार, जड़ें भी दूषित हो सकती हैं। हालाँकि, पत्तियों पर हीरे के आकार के घाव, चावल के फटने का सबसे आम और नैदानिक ​​लक्षण हैं, लेकिन शीथ पर घाव असामान्य हैं।

धान का लीफ ब्लास्ट रोग |  Rice leaf blast disease

  1. इसे पत्ती झुलसा रोग के नाम से भी जाना जाता है। 
  2. यह एक फफूंद जनित रोग है। 
  3. किसी भी अवस्था की फसल इस रोग की चपेट में आ सकती है। 
  4. धान की खेती होने वाले लगभग सभी क्षेत्रों में इस रोग का प्रकोप होता है। 
  5. इस रोग से प्रभावित पौधों की पत्तियां काली-लाल होकर मुरझाने लगती हैं। 
  6. इस रोग की समस्या ज्यादा होने पर आग के समान झुलसी दिखाई देती है।  

धान का नेक ब्लास्ट रोग | Rice neck blast disease

  1. इस रोग को गर्दन तोड़ रोग के नाम से भी जाना जाता है।
  2. यूरिया का अधिक प्रयोग एवं तापमान के गिरने के कारण यह रोग उत्पन्न होता है।
  3. वातावरण में अधिक नमी होने पर यह रोग तेजी से फैलता है। 
  4. इस रोग की शुरुआत में पत्तियों पर नीले या बैंगनी रंग के धब्बे उभरने लगते हैं। 
  5. कुछ समय बाद धब्बों के आकार में वृद्धि होती है और पत्तियां सूख जाती हैं। 
  6. तने की गांठे काले रंग की हो जाती हैं। 
  7. बालियां सफेद हो जाती हैं और बालियों में दाने नहीं बनते हैं। 
  8. कुछ समय बाद बालियां टूट कर लटक जाती हैं। 

पैडी ब्लास्ट रोग का नियंत्रण | Control paddy blast disease with Dhanuka Kasu-B

  • उत्पाद का नाम - कासु-बी 
  • रासायनिक संरचना - कासुगामाइसिन 3% एसएल
  • कंपनी का नाम - धानुका 

कासु-बी अन्तःप्रवाही फफूंदीनाशक एवं जीवाणुनाशक है। यह अन्तःप्रवाही एंटीबायोटिक होने के कारण शीघ्र ही पूरे पौधे में प्रवाहित होकर बीमारियों का सफल नियंत्रण करता है। यह रोगों के आने के पूर्व एवं रोगों के आने के पश्चात दोनों ही परिस्थितियों में छिड़काव करने पर प्रभावी नियंत्रण करता है।

कासु-बी अत्यधिक क्षारीय उत्पादों के अतिरिक्त, सामान्यतः प्रयोग में आने वाले अधिकांश फफूंदीनाशकों एवं कीटनाशकों के साथ सुसंगत है कासु-बी फ़सलों, मनुष्यों, जानवरों, परजीवी कीटों आदि के लिये सुरक्षित है। पहला छिड़काव रोग के लक्षण दिखते ही करें। आवश्यकतानुसार, दूसरा छिड़काव 8 से 10 दिन बाद करें।

कासु बी फफूंदनाशी के उपयोग के फायदे | Benefits of using Kasu B fungicide 

  1. यह निवारक और उपचारात्मक कार्रवाई के साथ एक व्यापक स्पेक्ट्रम कवकनाशी है।
  2. यह रसायन अत्यधिक प्रणालीगत है और इसमें स्थानान्तरण गतिविधि शामिल होती है।
  3. यह बहुत क्षारीय उत्पादों को छोड़कर, अधिकांश कवकनाशी और कीटनाशकों के साथ संगत है।
  4. स्ट्रेप्टोमीस कसुगेंसिस के किण्वन द्वारा उत्पादन युक्त होता है ।
  5. इसमें ब्रॉड-स्पेक्ट्रम गतिविधि शामिल होती है।
  6. अनुशंसित खुराकों पर, अधिकांश फसलों में फाइटोटॉक्सिसिटी नहीं होती है।

कासु बी कवकनाशी की उपयोग मात्रा | Application Dosage of Kasu B Fungicide

  • 3 मिली/लीटर पानी
  • 45 मिली/पंप (15 लीटर पंप )
  • 450 मिली/एकड़ से छिड़काव करें

किसान भाइयों अगर आप को दी गई जानकारी अच्छी लगी तो कमेंट में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें और आप को खेती सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहिए है, तो हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अपनी राय जरूर दर्ज करें।  

कमेंट करें


होम

वीडियो कॉल

VIP

फसल जानकारी

केटेगरी