Control collar rot and root rot in cotton crop with Dhanustin fungicide.

Dhanustin Fungicide से करें कपास की फसल में कॉलर रॉट और जड़ सड़न रोगों का नियंत्रण

कपास की फसल में करें धानुस्टिन फफूंदनाशी से कॉलर रॉट और जड़ सड़न रोग का नियंत्रण 

किसान भाइयों कपास की फसल एक फायदेमंद खेती मानी जाती है, क्योकि इसकी खेती एक नगदी फसल के रूप में की जाती है। आप को बता दें कि कपास को सफ़ेद सोना भी कहा जाता है। कपास की खेती जितना पैसा देती है उतना ही उसमें कीटों और रोगों की समस्या देखने को मिलती है। कपास की फसल खरीफ मौसम में होने के कारण बारिश के पानी से जड़ सड़न/गलन और कॉलर रॉट जैसे रोगों की समस्या ज्यादा होती हैं, जिससे प्रति एकड़ उत्पादन कम होता है और फसल की गुणवत्ता भी ख़राब होती है।  

आज के इस लेख में हम विस्तार से जानेंगे की किस तरह से कपास की फसल में लगने वाले कॉलर रॉट और जड़ सड़न रोग का नियंत्रण आप धानुका कंपनी के धानुस्टिन फफूंदनाशी से कर सकते हो, जिससे आपका रासायनिक दवाईयों पर प्रति एकड़ खर्चा कम हो जायेगा और फसल लम्बे समय तक फफूंदजनित रोगों से सुरक्षित रहेगी।  

आइये जानते हैं कपास की फसल में लगने वाले रोग कॉलर रॉट और जड़ सड़न के बारे में - 

कपास का जड़ सड़न या जड़ गलन रोग | Root rot of cotton details in Hindi  

  • जून से सितंबर महीने में कपास की फसल में जड़ गलन रोग के लक्षण सबसे अधिक दिखाई देते हैं। क्योकि इस समय पर मिट्टी का तापमान 28 डिग्री सेल्सियस (82 डिग्री फारेनहाइट) तक पहुंच जाता है। कपास जड़ गलन रोग के लक्षण सबसे पहले पत्तियों पर दिखाई देते हैं। इस रोग के प्रभाव से पत्तियों का रंग हल्का पीला या भूरा हो जाता है। 
  • कपास में जड़ सड़न के प्रभाव से 24 से 48 घंटों के भीतर सबसे ऊपरी पत्तियां मुरझा जाती हैं, और 72 घंटों के भीतर निचली पत्तियां मुरझा जाती हैंकपास जड़ सड़न रोग के कारण पूरा पौधा धीरे-धीरे मुरझाने लगता है। जब पौधें मुरझाने लगते हैं तब कवक का संक्रमण बढ़ जाता है।  
  • जब आप पौधों को उखाड़ने की कोशिश करते हैं तो आप ने देखा होगा पौधें आसानी से ऊपर आ जाते हैं। जब आप जड़ की छाल को देखते हो तो आप को जड़ सड़ी हुई दिखाई देती है और जड़ों का रंग भूरा और काला दिखाई देता है तथा जड़ों से बद्बू आती है।  
  • रोग की समस्या ज्यादा होने पर पौधें सूख जाते हैं और बाद में पौधों की मृत्यु हो जाती है। कपास सड़न रोग के कारण प्रति एकड़ 15000 से 20000 रूपए तक हानि होती है और प्रति एकड़ उत्पादन में गिरावट आती है।  

कपास कॉलर रॉट रोग | cotton collar rot disease Details In Hindi  

  • कपास कॉलर रॉट रोग की समस्या वसंत ऋतू या शुरुआती गर्मियों में दिखाई देती है, जब मिट्टी का तापमान 82°F तक पहुंच जाता है। कपास कॉलर रॉट रोग से प्रभावित पौधों की पत्तियों को जब आप हाथ लगाकर देखते हो, तो तब आप महसूस करते हो कि रोग से प्रभावित पौधों की पत्तियां स्वस्थ पौधों की पत्तियों से ज्यादा गर्म होती हैं |  
  • कपास कॉलर रॉट रोग के कारण पौधों की पत्तियां धीरे-धीरे मुरझाने लगती हैं और समस्या ज्यादा होने पर पूरा पौधा तुरंत मुरझा जाता है और बाद में पौधों की मृत्यु हो जाती है। रोगग्रस्त पौधों को जब आप उखाड़ते हो तो आसानी से बाहर आ जाता है।  
  • कपास कॉलर रॉट रोग यह एक फफूंदजनित रोग है। जब आप इस रोग से ग्रसित पौधों को देखते हो तो आप देख पाते हैं कि
  • पौधों की मुख्य जड़ सड़ी हुई होती है और जड़ों के थोड़े ऊपर 2 से 3 इंच तनों पर आपको सफ़ेद रंग का फफूंद दिखाई देगा जो पौधों के तनों को सड़ा देता है जिससे पौधे जमीन या मिट्टी पर पौधे गिरे हुए दिखाई देते हैं।  

आइये जानते हैं कैसे करता है धानुस्टिन फफूंदनाशी से कॉलर रॉट और जड़ सड़न रोग का नियंत्रण 

धानुस्टिन (कार्बेन्डाजिम 50% डब्ल्यूपी) एक व्यापक स्पेक्ट्रम प्रणालीगत कवकनाशी है जो फसलों के रोगों को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करता है। इसका उपयोग फसलों और सब्जियों में रोगों के नियंत्रण के लिए उपचारात्मक और निवारक दोनों के रूप में किया जाता है।

धानुस्टिन कैसे कार्य करता है | How Dhanustin works

  1. यह सुरक्षात्मक और उपचारात्मक कार्रवाई के साथ एक व्यापक स्पेक्ट्रम प्रणालीगत कवकनाशी है। 
  2. इसे पौधे के भीतर ले जाया और अनुवादित किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप बाद में फाइटिटोक्सिक हो जाते हैं। 
  3. जब जड़ों पर लागू किया जाता है, तो सक्रिय संघटक इंटर सेल्युलर रूप से जाइलम वाहिकाओं में गुजरता है और यह फली की ओर एसपी स्ट्रीम द्वारा बह जाता है। 
  4. जब पर्णवृंत पर लागू किया जाता है तो फफूंदनाशक जाइलम में हो जाता है और पत्ती के बाहर के भागों में फैल जाता है, लेकिन जड़ों की ओर विपरीत दिशा में नहीं होता है। 
  5. यह मुख्य रूप से रोगाणु नलिकाओं के विकास, एप्रेसोरिया के गठन और मायसेलिया के विकास को रोकता है।

धानुस्टिन फफूंदनाशी के उपयोग के फायदे | Advantages of using Dhanustin fungicide

  1. धानुस्टिन सूत्रीकरण उद्योग के सर्वश्रेष्ठ उत्पादों में से एक है। 
  2. यह ब्रॉड स्पेक्ट्रम कवकनाशी अपने प्रबल ऐक्शन से कई रोगों को नियंत्रित करता है।
  3. अन्य कवकनाशकों की तुलना में, प्रति एकड़ लागत और बेहतर संरक्षण के संदर्भ में यह लंबे उपयोग के लिए कम खर्चीला है।
  4. धानुस्टिन पौधों द्वारा तेजी से अवशोषित होता है और पूरे पौधे में स्थानांतरित हो जाता है। 
  5. इसके उपयोग के कुछ घंटे बाद ही बारिश हो जाये तब भी यह प्रभावी रहता है।

फसल - सेब, जौ, गेहूं, बेर, बैंगन, कपास, ककड़ी, अंगूर, मूंगफली, जूट, धान, मटर, गुलाब, चुकंदर, साबूदाना, अखरोट, गेहूं

रोगों का नियंत्रण  - एन्थ्रेक्नोज, ब्लास्ट, डाउनी लीफ स्पॉट, फ्रूट रोट, लीफ स्पॉट, लूज स्मट, पाउडरी मिल्ड्यू, स्कैब, सीडलिंग ब्लाइट, सेट रोट, शीथ ब्लाइट, टिक्का ओर लीफ स्पॉट आदि बीमारियां 

धानुस्टिन फफूंदनाशी की उपयोग मात्रा | Dhanustin Fungicide Dosage

  • 1  ग्राम/लीटर पानी
  • 15  ग्राम/पंप (15 लीटर पंप )
  • 150 ग्राम/एकड़ छिड़काव करें
  • बीजोपचार - 2.5 ग्राम/किलो बीज 

किसान भाइयों अगर आप को दी गई जानकारी अच्छी लगी तो कमेंट में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें और आप को खेती सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहिए है, तो हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अपनी राय जरूर दर्ज करें।  

कमेंट करें


होम

फसल जानकारी

VIP

केटेगरी

आर्डर