टिल्ट से करें फसल के रतुआ का नियंत्रण

फसल के रतुआ का नियंत्रण करें - टिल्ट के उपयोग से भागेंगे कवक रोग!

किसान भाइयो अगर आप खेती कर रहे हो तो उसमे आप को फफूंद जनित रोग जैसे फसल का  रस्ट, फसल का रतुआ  (rust disease) की समस्या ज्यादा देखने को मिल रही होगी, जिससे उत्पादन कम निकलता हैं और फसल ज्यादा ख़राब होती हे,   इस समस्या को जड़ से ख़त्म करने के लिए आप सिजेंटा कंपनी का टिल्ट फफूंदनाशक दवाई (Syngenta Tilt Fungicide ) Propiconazole 25% EC   का उपयोग कर सकते हो।  

किसान भाइयो आज हम बात करेंगे की आप कैसे टिल्ट फफूंदनाशक (Tilt Fungicide ) Propiconazole 25% EC  से फसल में लगने वाला रस्ट रोग या कंडुआ रोग (fasal ka  kanduaa rog in Hindi ) का नियंत्रण कर सकते हो। 

लांसर गोल्ड से करें Aphid Insect का सफाया

फसल का रतुआ रोग | Rust Disease Details in Hindi 

किसान भाइयो फसल में 'रतुआ' रोग लगता है, जिसे कई नामों से जानते हैं: रस्ट, रोली, गेरुआ इत्यादि। यह फसल का प्रमुख रोग है।

फसल का रतुआ रोग तीन प्रकार का होता है - 

  1. पीला रतुआ या धारीधार रतुआ  (yellow rust)
  2. भूरा रतुआ या पत्ती का रतुआ  (Brown rust ) 
  3. काला रतुआ या तने का रतुआ (Black rust)
पीला रतुआ (Stripe Rust)
  1. इस रोग में पोधो की पत्तियों में ऊपरी सतह पर पीले रंग की धारियां दिखाई देने लगती हैं।
  2. यह रोग धीरे-धीरे पूरी पत्तियों को अपने संक्रमण से पीला कर देती हैं। 
  3. इस रोग के कारन हमें पीले रंग का पाउडर जमीन पर बिखरा हुआ स्पष्ट दिखाई देने लगता है।
  4. पीला रतुआ या धारीधार रतुआ  (yellow rust)  रोग का पीले रंग की धारियों के रूप में दिखाई देना ही इसका प्रमुख लक्षण है। 
  5. इस कारण इसे 'धारीदार रतुआ' के नाम से भी जाना जाता है।

UPL साफ कवकनाशी का उपयोग करें, फसल के कवक रोगों से छुटकारा पाएं!

भूरा रतुआ (Leaf Rust)
  1. इस रोग के प्रारंभ में पत्तियों की ऊपरी सतह पर नारंगी रंग के सूई की नोक के समान बिंदु, बिना क्रम के उभरते हैं।  
  2. जो बाद में और घने हो जाते हैं। 
  3. भूरा रतुआ या पत्ती का रतुआ  (Brown rust) ये पत्तियों एवं पर्णवृतों पर गहरे भूरे रंग के रूप में फैल जाते हैं। 
  4. तापमान बढ़ने पर इन धब्बों का रंग पत्तियों की निचली सतह पर काला हो जाता है।  
  5. इसके बाद इस रोग का फैलना बंद हो जाता है।  
काला रतुआ (Stem Rust )
  • यह रोग 20 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान पर पे फैलता है।
  • काला रतुआ या तने का रतुआ (Black rust) रोग से प्रभावित फसल में तने एवं पत्तियों पर चाकलेटी रंग के धब्बे दिखाई देते हैं। 
  • बाद में ये काले रंग में बदल जाते हैं। 
  • तने में संक्रमण दिखाई देने के कारण इस रोग को 'तने का रतुआ' के नाम से भी जाना जाता है।

फसल का रतुआ रोग का नियंत्रण | Control of Rust Disease in Crop in Hindi 

क्या आप भी फसल में रतुआ रोग ( fasal ka ratuaa rog ) से हो परेशान हो आज ही खरीदी करें भारतअग्रि की कृषि दुकान से कृषि अधिकारी बताये सबसे अच्छे और सस्ते प्रोडक्ट वो भी फ्री होम डिलीवरी के साथ।  

उत्पाद का नाम 

कंपनी 

रासायनिक संघटन

प्रति एकड़ डोज

प्रति लीटर पानी डोज

उपयोग विधि 

टिल्ट  Tilt

सिंजेंटा 

Propiconazole 25% EC 

150 - 200 मिली 

1 - 1.5 मिली 

छिड़काव 

ज़ेरोक्स  Zerox

धानुका 

Propiconazole 25% EC 

150 - 200 मिली 

1 - 1.5 मिली

छिड़काव 

स्कोर Score

सिंजेंटा 

Difenoconazole 25% EC 

100 - 150 मिली 

0.5 - 1 मिली

छिड़काव 

बुओनोस Buonos 

बायर 

Tebuconazole 38.39% SC

250 -300 मिली

1.5 - 2 मिली

छिड़काव 

 

कमेंट करें

बेस्ट रिजल्ट के लिए बेस्ट जोडी