गन्ना फेरोमन ट्रैप से करें तना छेदक कीटों का सफाया!

गन्ना फेरोमन ट्रैप से करें तना छेदक कीटों का सफाया!

गन्ने की फसल को कई तरह के कीट नुकसान पहुंचाते हैं, जसमे तना छेदक (स्टेम बोरर) सबसे आम है। इस कीट का प्रकोप गन्ने की फसल को काफी नुकसान पहुंचाता है। यदि आप गन्ना उगाते हैं, तो तना छेदक कीट को नियंत्रित करने के स्मार्ट टिप्स और स्टेम बोरर कीट की सम्पूर्ण जानकारी इस लेख में आप को मिलेगी।  

गन्ने में तना छेदक कीट की समस्या | Sugarcane Stem Borer Insect 

बुवाई के बाद गन्ने की फसल में तापमान बढ़ने की अवस्था और गन्ने के अंकुरण के बाद ऊपरी पोई के सूखने के लक्षण के साथ अग्र तना छेदक का प्रकोप दिखाई देता है। इसका प्रकोप वसंत और ग्रीष्म रोपण के दौरान अधिक होने की संभावना होती है। इसका कैटरपिलर सतह के पास नाजुक तने में एक छेद के माध्यम से प्रवेश करता है, और भक्षण करने के परिणामस्वरूप बढ़ती हुई पोई सूख जाती है। इसे धीरे से खींचने पर यह बाहर निकल आता है। इस बेधक के फैलने से चीनी का उत्पादन और मात्रा नष्ट हो जाती है।

गन्ने में तना छेदक कीट के लक्षण | Symptoms of Stem Borer in Sugarcane

गन्ने की फसल में नए उत्पादित लार्वा गन्ने के तीन और चार गांठों के बीच एक नोड में इकट्ठा होते हैं और गन्ने को भीतर से संक्रमित करना शुरू कर देते हैं । यदि ऐसी छर्रों को फाड़ कर देखा जाता है, तो लार्वा की संख्या 15-20 के बीच हो सकती है और ताजा कीट मल, गीला और चमकीले रंग का, संक्रमित छर्रों के छिद्रों से बाहर निकलता हुआ दिखाई देता है।

कुछ देर बाद क्षतिग्रस्त गन्ने की ऊपरी पत्तियां पूरी तरह सूख जाती हैं। क्षतिग्रस्त गन्नो पर छोटे-छोटे छेद दिखाई देते हैं और जब गन्ने को झटका दिया जाता है या फिर तेज हवा के कारण गन्ना आसानी से टूट जाता है।  

फेरोमोन ट्रैप से करें गन्ने में तना छेदक कीट का नियंत्रण | Stem borer Pheromone trap 

तना छेदक कीटों के नियंत्रण के लिए हानिकारक कीटनाशकों का उपयोग किया जाता हैं, जिसके कारण मित्र कीटों की भी मृत्यु हो जाती हैं। बिना कीटनाशकों के खेती करने वाले किसान भी अब तना छेदक कीटों का नियंत्रण फेरोमोन ट्रैप से कर सकते हैं और अपनी फसल को तना छेदक कीटों के साथ अन्य कीटों से भी बचा सकते हैं।  

फेरोमोन ट्रैप का उपयोग करके कीटों को नियंत्रित और मॉनिटर किया जा सकता है। यह बेहद कम कीमत वाला डिवाइस है। जिसे किसी भी खाद और बीज की दुकान या फिर ऑनलाइन भारत अग्रि कृषि दुकान से खरीदा जा सकता है। कैप्सूल में मादा कीड़ों की गंध बनी रहती है, जो नर कीड़ों को आकर्षित करती है और उन्हें जाल में फंसा देती है। इस कारण तना छेदक कीटों की संख्या पर नियंत्रण रखा जाए तो किसान की फसल को नुकसान नहीं होता और फसल को बचाने में हजारों रुपये खर्च नहीं होते।

फेरोमोन ट्रैप कैसे काम करता है | How to use pheromone traps

फेरोमोन एक सुगंध है जो नर कीड़ों को आकर्षित करती है और इसकी तुलना मादा कीड़ों से की जा सकती है। इस सुगंध के साथ एक छोटी सी कैप्सूल के आकार की संरचना भरना कीट जाल बनाता है। इसे लालच कैप्सूल के आकार की संरचना भी कहा जाता है।  

एक प्लास्टिक बैग लालच डिवाइस के तल से जुड़ा हुआ है। नतीजतन, पास के नर कीड़े इसकी गंध से आकर्षित होते हैं। इन कूड़ादानों (उपकरणों) का निर्माण इस तरह से किया जाता है कि कीड़े अंदर आ सकते हैं लेकिन बाहर नहीं जा सकते। फेरोमोन ट्रैप में मौजूद कीड़ों की मात्रा यह निर्धारित करती है कि क्या क्षेत्र दूषित है और फसल का कौन सा हिस्सा सबसे ज्यादा प्रभावित होता है। सबसे अहम पहलू यह है कि यह डेटा बताता है कि खेत में कौन से कीट मौजूद हैं।

गन्ना फेरोमन ट्रैप के लाभ | Advantages of Stem borer Pheromone Traps

  • इससे किसान को अब रसायन का छिड़काव नहीं करना पड़ेगा और साथ में होने वाला खर्चा भी नहीं उठाना पड़ेगा।
  • क्योंकि फेरोमोन और लालच गैर-विषैले होते हैं, वे फसल या पर्यावरण के लिए कोई खतरा पैदा नहीं करते हैं।
  • इस पद्धति का उपयोग करके कीटों का आकलन और उपचार करना सरल है।
  • इस प्रकार, कीट गुणा नहीं करते हैं और उत्पादन प्रभावित नहीं होता है।
  • उपकरण केवल एक बार खरीदा जाना चाहिए, और केवल फेरोमोन-सुगंधित लालच को नियमित आधार पर बदला जाना चाहिए।
फसल सम्बन्धित जानकरी के लिए यहाँ क्लिक करें और जानें स्मार्ट टिप्स 

किसान भाइयों अगर आप को दी गई जानकारी अच्छी लगी तो कमेंट में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें और आप को खेती सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहिए है, तो हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अपनी राय जरूर दर्ज करें।  

कमेंट करें


होम

फसल जानकारी

केटेगरी

आर्डर