rice herbicide

rice herbicide: धान की फसल में खरपतवार नियंत्रण कैसे करें?

किसान भाइयों नमस्कार, स्वागत है BharatAgri Krushi Dukan वेबसाइट पर। आज हम जानेंगे धान की फसल में खरपतवार (rice herbicide) नियंत्रण, धान की फसल में खरपतवार उगने के कारण क्या हैं, धान में खरपतवार का (paddy crop weed control)  नियंत्रण करना क्यों जरुरी हैं, धान की फसल में खरपतवार का जैविक नियंत्रण, धान की फसल में खरपतवार के नियंत्रण का (paddy crop best herbicide) रासायनिक तरीका, धान की फसल में खरपतवार को नियंत्रित करने वाले बेस्ट खरपतवारनाशी (Best herbicide for rice crop) की सम्पूर्ण जानकारी।  

धान, (Paddy crop) भारतीय किसानों के लिए एक महत्वपूर्ण फसल है जो हमारे देश की प्रमुख अन्नदाता में से एक है। धान फसल में खरपतवार का सामना करना एक आम समस्या है जो फसल की उत्पादकता को प्रभावित कर सकती है। इस ब्लॉग में, हम धान की फसल में खरपतवार के कारण, उपयुक्त पहचान, और नियंत्रण के विभिन्न उपायों के बारे में चर्चा करेंगे। तो चलिए शुरू करते हैं।


धान की फसल में खरपतवार कैसे उगते या आते हैं | How weeds germinate in paddy crop -

1. अधिक जल उपलब्धता: अधिक जल उपलब्धता वाले क्षेत्रों में खरपतवार ज्यादा उग सकता है। जल की उपलब्धता के अनुसार खरपतवार की बीजें भूमि में प्रवेश कर सकती हैं और उगने में वृद्धि हो सकती है।

2. अधिक तापमान: गर्मी के मौसम में धान की फसल में खरपतवार का प्रसार ज्यादा होता है। उच्च तापमान खरपतवार के लिए उचित मानसिकता को प्रोत्साहित करता है जिससे वे तेजी से बढ़ सकते हैं।

3. उच्च तनाव: धान की फसल में अधिक तनाव वाले क्षेत्रों में खरपतवार का प्रसार होता है। अधिक तनाव के कारण पौधे कमजोर हो जाते हैं और खरपतवार की बीजें आसानी से उग जाती हैं।

4. जल संरचना की कमी: धान की फसल में जल संरचना की कमी के कारण भूमि में उपलब्ध खरपतवार की बीजें उगने में समर्थ होती हैं।

5. फसल संरचना: धान की फसल में संरचना की कमी के कारण खरपतवार बड़ी संख्या में उग सकते हैं। उचित समय पर सही संरचना के साथ फसल को उगाना खरपतवार से बचा सकता है।

6. फसल प्रबंधन: अनुशासनहीनता और अनुवांछित फसल प्रबंधन के कारण खरपतवार की बीजें फसल में उग जाती हैं और फसल को नुकसान पहुंचा सकती हैं।

7. बीजों का संतुलित बोवाई नहीं करना: धान की फसल के बीजों को संतुलित तरीके से बोने की योजना न बनाना खरपतवार के उगने का प्रमुख कारण है।

8. खेत की तैयारी नहीं करना: खेत की सही तैयारी न करने से विकसित होने वाले खरपतवार की बीजें फैल जाती हैं और खरपतवार का प्रसार होता है। 

9. बेकार भूमि: धान की फसल में बेकार भूमि में उगने वाले खरपतवार का प्रसार होता है। इससे फसल के विकास पर बुरा असर पड़ता है और पौधे की संरचना पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

10. खेतीबाड़ी तकनीकों की लापरवाही: कुछ बार खेतीबाड़ी तकनीकों की लापरवाही के कारण भी खरपतवार का प्रसार हो सकता है। उचित समय पर सिंचाई न करना, समय पर बोने न जाने वाले बीज या पोषण न होने से खरपतवार उग सकते हैं।

11. अधिक वर्षा: भारी और लगातार वर्षा के कारण खेतों में पानी जमा हो जाता है, जिससे मिट्टी नरम और कमजोर हो जाती है, जिससे खरपतवार का खतरा बढ़ जाता है।


धान की फसल में खरपतवार का नियंत्रण और इसके फायदे | Weed control in Paddy Crop - 

1. उत्पादकता की वृद्धि: खरपतवार से बचकर धान की उत्पादकता में सुधार होता हैं।

2. फसल सुरक्षा: खरपतवार से बचकर धान की फसल को कीट और रोगों से बचाया जा सकता हैं।

3. उचित पोषण: खरपतवार से मुक्त पौधे उचित पोषण प्राप्त करते हैं, जिससे उनका विकास सही रहता हैं।

4. उचित विकास के लिए आवश्यक: खरपतवार का नियंत्रण करना धान के उचित विकास के लिए आवश्यक हैं।

5. खरपतवार से बचाव से फसल की गुणवत्ता में सुधार होता हैं।

6. खरपतवार से बचाने से किसानों को नुकसान से बचाने में मदद मिलती हैं।

7. उचित विकास के साथ किसानों को बेहतर लाभ मिलता हैं।

8. खरपतवार से नियंत्रण करने से धान की उत्पादकता में वृद्धि होती हैं और उत्पादों की उचित मात्रा मिलती हैं।

9. खरपतवार के नियंत्रण से किसानों को समय और धन की बचत होती हैं।

10. खरपतवार के कारण होने वाली नुकसान से किसानों को बचाकर उन्हें धान की फसल में अधिक लाभ मिलता हैं।


धान की फसल में खरपतवार के नियंत्रण की विधिं या क्रिया Paddy crop weed control method -

1. बीज अंकुरण : एक स्वस्थ और बीमारि-मुक्त धान की फसल की शुरुआत बीज अंकुरण के साथ करें। उच्च गुणवत्ता वाले और समय पर अंकुरित बीजों का उपयोग करें।

2. सही विकास समय: धान की फसल को सही विकास समय पर रोपण करें। नियमित खेती अनुसार फसल के विकास को देखें और उसके अनुसार उपयुक्त कार्रवाई करें।

3. पौध रोपण दूरी : धान की फसल में खरपतवार के नियंत्रण के लिए उचित रोपण दूरी अपनाएं। फसल के प्रकार और ज़मीन की गुणवत्ता के आधार पर समझदारी से रोपण और ताकतवर पौधों का चयन करें।

4. उचित पोषण: धान की फसल को उचित पोषण प्रदान करें। पोषण के लिए उचित मात्रा में खाद, खरपतवारनासक और उर्वरकों का उपयोग करें।

5. समय पर सिंचाई: धान की फसल को समय पर सिंचाई करें। अधिक सिंचाई या कम सिंचाई से बचें और उचित सिंचाई का ध्यान रखें।

6. सभी खेती उपकरण का उपयोग करें: खेती उपकरणों का उचित उपयोग करके खरपतवार से बचें। खेती उपकरणों के साथ खेती का काम तेज़ी से होगा और खरपतवार के नियंत्रण में सहायता मिलेगी।

7. नियमित निगरानी: धान की फसल में खरपतवार के नियंत्रण के लिए नियमित निगरानी करें। फसल के प्रदर्शन और स्वास्थ्य की निगरानी करते रहें और समस्या का निदान करें।

8. संशोधित खेती तकनीक: धान की फसल में खरपतवार के नियंत्रण के लिए संशोधित खेती तकनीक का उपयोग करें। नई तकनीकों के अनुसार खेती करें और फसल को सुरक्षित रखें।

9. नई जानकारी और तकनीक का संदर्भ लें: धान की फसल में खरपतवार के नियंत्रण के लिए नई जानकारी और तकनीक का संदर्भ लें। समय-समय पर नई जानकारी का संदर्भ लें और फसल को सुरक्षित रखने के लिए उचित तकनीक का उपयोग करें।

10. संतुलित खेती: धान की फसल में संतुलित खेती का ध्यान रखें। संतुलित खेती से फसल को उचित पोषण प्राप्त होता हैं और फसल के प्रदर्शन में सुधार होता हैं।

11. सावधानी से पेस्टिसाइड का उपयोग करें: धान की फसल में खरपतवार से बचने के लिए सावधानी से पेस्टिसाइड का उपयोग करें। सही मात्रा में और नियमित अंतराल पर पेस्टिसाइड का उपयोग करें।

12. स्वयं परीक्षण: धान की फसल में खरपतवार के लिए स्वयं परीक्षण करें। फसल के प्रदर्शन में समस्या होने पर अपने पौधों को जाँचें और खरपतवार के लक्षणों को पहचानें।


धान की फसल में खरपतवारनाशी के उपयोग से करें खरपतवार का नियंत्रण Best herbicide for paddy crop -

धान की फसल में खरपतवार के नियंत्रण के लिए उचित खरपतवारनाशी के उपयोग से फसल को खरपतवार से बचाया जा सकता है। समय पर सही खरपतवारनाशी उत्पाद का चयन करना और उसे समय पर खेत में छिड़कना फसल को खरपतवार से बचाने में मदद करता है। आइयें जानते हैं धान की फसल में उपयोग किए जाने वाले बेस्ट खरपतवारनाशी के बारें में । 

क) धान की बुवाई या पौध रोपण के पहले उपयोग किए जाने वाले खरपतवारनाशी -

1. उत्पाद - साथी (UPL), ओजिका (IFFCO), प्रॉपर्टी (BIOSTADT ) 

रासायनिक संरचना - पायराज़ोसल्फ्यूरॉन एथिल  10% WP

उपयोग मात्रा - 80 ग्राम प्रति एकड़ 

खरपतवार नियंत्रण - सभी प्रकार के खरपतवार छिड़काव 


2. उत्पाद - क्रेज  (Dhanuka), रीफिट (Syngenta), 

रासायनिक संरचना - प्रेटिलाक्लोर 50% EC

उपयोग मात्रा - 500 मिली प्रति एकड़ 

खरपतवार नियंत्रण - सभी प्रकार के खरपतवार छिड़काव 

Dhanuka ChempaNagarjuna Eraze


ख) धान में खरपतवार को नियंत्रित करने वाले बेस्ट खरपतवारनाशी -

1. उत्पाद - नॉमिनी गोल्ड (PI), अडोरा (Bayer), स्ट्राईडर (UPL), नोवेल्टी  गोल्ड (Crystal)

रासायनिक संरचना - बिस्पाइरीबैक सोडियम 10% SC 

उपयोग मात्रा - 100-120 मिली प्रति एकड़ 

खरपतवार नियंत्रण - सभी प्रकार के खरपतवार छिड़काव 


2. उत्पाद - काउंसिल एक्टिव (Bayer) 

रासायनिक संरचना - ट्रायफामोन 20% + एथोक्सीसल्फ्यूरॉन 10% डब्लूजी

उपयोग मात्रा - 90 ग्राम प्रति एकड़ 

खरपतवार नियंत्रण - सभी प्रकार के खरपतवार छिड़काव 


3. उत्पाद - क्रैकर (Crystal), विवाया (Dow AgroSciences)

रासायनिक संरचना - पेनोक्ससुलम 1.02% + साइहलोफॉप-ब्यूटाइल 5.1% ओडी

उपयोग मात्रा - 900 मिली प्रति एकड़ 

खरपतवार नियंत्रण - सभी प्रकार के खरपतवार छिड़काव 


4. उत्पाद - बेंटिला (Crystal)

रासायनिक संरचना - बेंसल्फ्यूरॉन मिथाइल 0.60 % + प्रेटिलाक्लोर 6 % GR 

उपयोग मात्रा - 4 किलोग्राम  प्रति एकड़ भुरकाव करें  

खरपतवार नियंत्रण - सभी प्रकार के खरपतवार 


5. उत्पाद - सनराइस (Bayer)

रासायनिक संरचना - एथोक्सीसल्फ्यूरॉन 15% WDG

उपयोग मात्रा - 50 ग्राम  प्रति एकड़ 

खरपतवार नियंत्रण - सभी प्रकार के खरपतवार छिड़काव 

PI Nominee Gold HerbicideGSP Sickle Weedicide


FAQ | बार - बार पूछे जाने वाले सवाल - 

1. धान की फसल में खरपतवार क्या होता है?

खरपतवार धान की फसल में उगने वाले जैविक विषाणु या गैर-वनस्पतिक पौधों के समूह को कहते हैं जो फसल के साथ संगठित तौर पर विकसित होते हैं और फसल के विकास को बाधित करते हैं।


2. धान में खरपतवार के लिए उपाय क्या हैं?

धान में खरपतवार को नियंत्रित करने के लिए अनिवार्य उपायों में विभिन्न खरपतवारनाशी उत्पादों का उपयोग किया जा सकता हैं।


3. धान में खरपतवारनाशी कौन से हैं?

धान में खरपतवार को नियंत्रित करने के लिए प्रमुख खरपतवारनाशी उत्पाद हैं: पायराज़ोसल्फ्यूरॉन एथिल, प्रेटिलाक्लोर, बिस्पाइरीबैक सोडियम, ट्रायफामोन, और बेंसल्फ्यूरॉन मिथाइल।


4. धान में खरपतवार नियंत्रण के लिए कौन सा उत्पाद सबसे अच्छा है?

धान में खरपतवार नियंत्रण के लिए सबसे अच्छे खरपतवारनाशी उत्पादों में नॉमिनी गोल्ड, अडोरा, स्ट्राइडर, और नोवेल्टी गोल्ड शामिल होते हैं।


5. खरपतवारनाशी उत्पादों को फसल में कब और कैसे छिड़काव करें?

खरपतवारनाशी उत्पादों को धान की फसल में बुवाई के पहले या खरपतवार उगने से पहले छिड़काव करना ज्यादा प्रभावी होता हैं।


6. खरपतवारनाशी उत्पादों का उपयोग करने से क्या फायदे होते हैं?

खरपतवारनाशी उत्पादों का उपयोग करने से खरपतवार का प्रभावी नियंत्रण होता है और फसल का उत्पादन बढ़ता है।


7. धान की फसल में खरपतवार का नियंत्रण क्यों जरूरी है?

धान की फसल में खरपतवार का नियंत्रण जरूरी है क्योंकि खरपतवार फसल के उत्पादन को बाधित करते हैं और किसानों को नुकसान पहुंचाते हैं।


Conclusion | सारांश - 

किसान भाइयों BharatAgri Krushi Dukan वेबसाईट - “ "धान की फसल में (rice herbicide)  खरपतवार का नियंत्रण"  यह ब्लॉग ( लेख ) आपको कैसा लगा? आशा करते है की आपको सारी जानकारी पसंद आई है और आपको आने वाला मौसम मे इसका फायदा भी होगा। "धान की फसल में (rice herbicide)  खरपतवार का नियंत्रण, फायदें और सम्पूर्ण जानकरी"  के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे BharatAgri App को विज़िट करें। 

इस ब्लॉग को शेयर करके अपने किसान साथियों को भी इसे पढ़ने का अवसर दें और धान की फसल में (rice herbicide)  खरपतवार का नियंत्रण, फायदें और सम्पूर्ण जानकरी के बारे में उन्हें भी बताएं। इससे इस जानकारी का विस्तार होगा और अधिक किसान इससे लाभान्वित होंगे। धन्यवाद !



लेखक 

भारतअ‍ॅग्री कृषि डॉक्टर

Back to blog

Leave a comment

Please note, comments need to be approved before they are published.


होम

वीडियो कॉल

VIP

फसल जानकारी

केटेगरी