Brinjal Crop Insect Control

Brinjal Crop Insect Control: बैगन फसल में कीटों के नियंत्रण और जानकारी

नमस्कार किसान भाइयों भारत में बैंगन की खेती तीनों ही मौसम में की जाती है। बैंगन की खेती भारत के विभिन्न राज्यों पश्चिमी बंगाल, उड़ीसा, कर्नाटक, बिहार, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश में होती है। तो आज के लेख में हम बैंगन की फसल को (Brinjal Crop Insect Control) नुकसान पहुंचाने वाले प्रमुख कीटों जैसे - माहू, थ्रिप्स, जैसिड, सफेद मक्खी, तना छेदक और फल छेदक के पहचान और नियंत्रण के बारे में विस्तार से जानेंगे। 

 

बैंगन के फसल के प्रमुख कीट | Pest of Brinjal Crop: 

सबसे पहले अब हम जानेंगे की बैगन फसल को नुकसान पहुंचाने वाले प्रमुख कीटों के बारे में - 

1 ) माहू (Aphids) 
2 ) थ्रिप्स (Thrips)
3 ) जैसिड (Jassid)
4 ) हड्डा भृंग (Hadda Beetle)
5 ) मकड़ी (Mite)
6 ) तना छेदक (Stem Borer) 
7 ) फल छेदक (Fruit Borer)

 

 

 

बैगन में कीटों की पहचान | Brinjal Crop Insect Identification: 

बैगन की फसल को प्रभावित करने वालें कीटों की पहचान और जानकारी निम्न है - 

बैंगन का माहू कीट | Aphids Insect: 

माहू कीट देखने में हरे रंग का छोटा कीट है। जो पौधे के पत्तियों, तनों आदि कोमल भागों से रसचूसकर कमजोर कर देता है जिसके फलस्वरूप पत्तियाँ पीली पड़ जाती हैं। अगर पौधे को हिलाते हैं तो कीड़े फुदकते हुए दिखाई देते हैं। 

बैंगन का थ्रिप्स कीट | Thrips Insect: 

थ्रिप्स कीट पौधे के कोमल भागों पत्तियों, तनों आदि से रसचूसकर कमजोर कर देता है जिसके फलस्वरूप प्रकाश संस्लेषण क्रिया बाधित हो जातीहैं जिससे पौधे की पत्तियाँ पीली पड़ जाती हैं। ये देखने में काले,भूरे एवं पीले रंग के दिखाई देते हैं।

बैंगन का जैसिड कीट | Jassid Insect:   

जैसिड कीट पत्तों के निचले भागों से चिपककर रस चूसते हैं, जिसके कारण पत्तियों का रंग पीला पड़ जाता है और पौधा कमजोर हो जाता है।

बैंगन का हड्डा बीटल कीट | Hadda Beetle insect: 

यह कीट भूरे रंग का अर्धगोल आकृति का होता है। यह कीट छेद बनाकर पत्तियों को खाता है फिर बाद में सिर्फ सिराएं ही बचती हैं, इस कीट से ग्रसित पौधा सूख जाता है।

बैंगन का तना छेदक कीट | Brinjal Stem Borer:

बैंगन की फसल में यह सूंडी नई पुष्प कलिकाओं तथा तने में सुरंग बनाकर अंदर ही अंदर तने को खा जाती हैं। जिससे शीर्ष भाग सूखकर मुरझाकर लटक जाता है। इस कीट का रंग सफेद पीले रंग का होता है तथा इस कीट के शरीर पर बैगनी रंग की बिंदिया होती हैं।

बैंगन का फल छेदक कीट | Brinjal Fruit Borer: 

बैंगन की फसल में यह सूंडी फलों में छेद करके फलों के गूदे को खा जाती हैं जिससे फलों मे ज्यादा छेद दिखाई देते है और फल ख़राब हो जाता है जिसके कारण बाद में बैगन के फलों को बाजार भाव सही नहीं मिल पाता है। 

 

बैंगन के रसचूसक कीटों का नियंत्रण | Brinjal Sucking Pest Control:   

1. सुपरकिलर कीटनाशक (super killer insecticide) को 0.5 मिली प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव कर सकते है।

2. डँटोत्सु कीटनाशक (Dantotsu insecticide) को 12 -16 ग्राम प्रति एकड़ के हिसाब से छिड़काव करें। 

3. यूपीएल उलाला (ulala insecticide) का 60 ग्राम को प्रति एकड़ के हिसाब से छिड़काव करना चाहिए। 

4. बैंगन की फसल में बायर कंपनी के एडमायर कीटनाशी (Bayer Admire insecticide) को 60 ग्राम प्रति एकड़ छिड़काव के लिए उपयोग कर सकते हैं।

5. रसचूसक कीटों के नियंत्रण के लिए एफएमसी रोगोर (FMC Rogor Insecticide) कीटनाशक को 1-2 मिली प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए। 

 

बैंगन मे मकड़ी कीटों का प्रकोप | Mite Insect Infraction in Brinjal Crop 

बैंगन की फसल में मकड़ियाँ पत्तों के नीचे जाल बनाकर पत्तों का रस चूसती हैं इस कीट के प्रभाव के कारण बैगन के पत्ते लाल रंग के दिखाई देने लगते है। बैगन की फसल मे मकड़ी के नियंत्रण  (Mite Insect Insecticide) के लिए बेस्ट माइटीसाइड निम्न है - 

1. बायर ओबेरोन (Bayer Oberon Insecticide) को 1 मिली प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें। 

2. धानुका ओमाइट कीटनाशक (Dhanuka Omite Insecticide) को 1.5 मिली प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें। 

3. अबासीन कीटनाशक (Abacin Insecticide) को 1 मिली प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।

 

बैगन की फसल मे तना और फल छेदक कीटों का नियंत्रण | Borer Insecticide:

1. तना और फल छेदक कीटों के नियंत्रण के लिए हमला 550 (Hamla 550 Insecticide) कीटनाशक को 2 मिली प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए। 

2. तना और फल छेदक कीटों के लिए धानुका सुपर डी कीटनाशक (Dhanuka Super d Insecticide) को 2 मिली प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए।

3. सुमितोमो सुमिप्रेम्प्ट कीटनाशक (Sumitomo Sumiprempt) को 1.5-2 मिली प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।

4. फसल मे बोरर कीटों के नियंत्रण के लिए आप अगर कीटों की समस्या ज्यादा दिखाई दे तो एफएमसी कोराजन (क्लोरेंट्रानिलिप्रोल 18.5% w/w SC) कीटनाशक - 04 मिली प्रति लीटर पानी में डाल कर फसल पर छिड़काव करें।

 

    सारांश: 

    आज के लेख में आपको (Brinjal Crop Insect Control) बैगन फसल में सभी कीटों के नियंत्रण और जानकारी के बारे में पढ़कर कैसा लगा यह हमें कमेंट में बताना न भूलें और इस लेख को अपने अन्य किसान मित्रों के साथ भी शेयर करें। धन्यवाद!

     

    किसानों द्वारा बार-बार पूछे जानें वाले प्रश्न : 

    1. बैंगन की फसल को नुकसान पहुंचाने वाले प्रमुख कीट कौन-कौन से हैं?

    उत्तर - माहू, थ्रिप्स, जैसिड, हड्डा भृंग, मकड़ी, तना छेदक और फल छेदक।

    2. माहू कीट कैसे पहचानें?

    उत्तर - माहू कीट हरे रंग का छोटा कीट होता है जो पौधे के कोमल भागों का रस चूसता है।

    3. थ्रिप्स कीट किस प्रकार का होता है?

    उत्तर - थ्रिप्स कीट काले, भूरे एवं पीले रंग का होता है जो पौधों की पत्तियों और तनों का रस चूसता है।

    4. जैसिड कीट किस प्रकार से पौधे को प्रभावित करता है?

    उत्तर - जैसिड कीट पत्तियों के निचले भागों से रस चूसता है, जिससे पत्तियाँ पीली पड़ जाती हैं।

    5. हड्डा बीटल कीट की पहचान कैसे करें?

    उत्तर - हड्डा बीटल कीट भूरे रंग का अर्धगोलाकार होता है जो पत्तियों को खाता है।

    6. तना छेदक कीट बैंगन की फसल में कैसे नुकसान पहुंचाता है?

    उत्तर - तना छेदक कीट तने में सुरंग बनाकर पौधे को कमजोर कर देता है।

    7. फल छेदक कीट का क्या असर होता है?

    उत्तर - फल छेदक कीट फलों में छेद बनाकर गूदे को खा जाता है जिससे फल खराब हो जाते हैं।

    8. रसचूसक कीटों के नियंत्रण के लिए कौन-कौन से कीटनाशक उपयोग किए जा सकते हैं?

    उत्तर - सुपरकिलर, डँटोत्सु, यूपीएल उलाला, बायर एडमायर, और एफएमसी रोगोर।

    9. मकड़ी कीट का प्रभाव कैसे पहचानें?

    उत्तर - मकड़ी कीट पत्तों के नीचे जाल बनाकर रस चूसती है जिससे पत्ते लाल हो जाते हैं।

    10. तना और फल छेदक कीटों के नियंत्रण के लिए कौन से कीटनाशक प्रभावी हैं?

    उत्तर - हमला 550, धानुका सुपर डी, सुमितोमो सुमिप्रेम्प्ट, और एफएमसी कोराजन।
     

    लेखक: 

    भारतअ‍ॅग्री कृषि डॉक्टर

    Back to blog

    होम

    वीडियो कॉल

    VIP

    फसल जानकारी

    केटेगरी