Pseudomonas Fluorescens कवकनाशी के छिडकाव,फायदे और डोज़ के बारे में विस्तार से जानें

Pseudomonas Fluorescens कवकनाशी के छिडकाव,फायदे और डोज़ के बारे में विस्तार से जानें

Pseudomonas Fluorescens है सबसे अच्छा जैविक कवकनाशी

नमस्कार किसान भाइयों आज के लेख जैविक कवकनाशी pseudomonas fluorescens के बारे में चर्चा करने वाले है जिसमें स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस कवकनाशी के उपयोग के बारे में तथा रोगो के नियंत्रण और स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस कवकनाशी की खुराक के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। 

पढ़ें एनपीके 19-19-19 खाद का उपयोग करें, N, P & K की उपलब्धता बढ़ाएं!

Pseudomonas Fluorescens है सबसे अच्छा जैविक कवकनाशी

आइये किसान भाइयों जैविक कवकनाशी स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस (pseudomonas fluorescens) के बारे में चर्चा करते है - 

अब जानते है स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस के बारे में की यह क्या है और कैसे आज ये किसानो की पहली पसंद बन गया है - 

सबसे अच्छा जैविक कवकनाशी स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस - 

किसान भाइयों Pseudomonas Fluorescens बैक्टीरिया पर आधारित जैविक फफूदीनाशक या जीवाणुनाशक है| जो बाजार में विभिन्न फॉर्म्युलेशन में 0.5 प्रतिशत डब्लू पी, 1 प्रतिशत डब्लू पी, 1.5 प्रतिशत डब्लू पी और 1.75 प्रतिशत डब्लू पी उपलब्ध होता है,जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के मृदा,बीज और वायु जनित रोगो के नियंत्रण के लिए किया जाता है। स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस कवकनाशी के प्रयोग के 15 दिन पहले और 15 से 20 दिनों तक कोई भी रासायनिक फफूंदनासी का प्रयोग नहीं करना चाहिए | जैविक कवकनाशी स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस की सेल्फ लाइफ एक वर्ष है|

पढ़ें फसल मे जड़ वृद्धि के लिए Humic Acid Fertilizer का महत्व के बारे में | 

जैविक कवकनाशी Pseudomonas Fluorescens से नियंत्रित रोग - 

अब हम जानते है की स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस कवकनाशी से नियंत्रित होने वाले रोगो के बारे में - 

1) जड़ सड़न

2) तना सड़न  

3) डैम्पिंग आफ

4) उकठा  

5) लाल सड़न     

6) जीवाणु झुलसा 

7) डाउनी और पाउडर फफूंदी जैसे विभिन्न रोगों को नियंत्रित करता है। 

जैविक कवकनाशी Pseudomonas Fluorescens कवकनाशी के उपयोग और मात्रा  - 

  • स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस कवकनाशी से बीज उपचार (pseudomonas fluorescens treatment) कर सकते है बीजजनित और मृदा जनित रोगों से बचाव के लिए तो स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस तरल को 2.5 मिली प्रति किलोग्राम बीज लेना है,यदि पाउडर फॉर्म में है तो 5 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचारित करें। 
  • अब यदि खड़ी फसल में पत्तियो पर छिड़काव की बात करें तो 2-2.5 मिली प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए और भूमि में नमी होनी चाहिए। 
  • यदि किसान भाइयो आप एक एकड़ को घोल बनाना चाहते है तो 400 से 500 मिली प्रति एकड़ 200 लीटर पानी में मिलाकर उपयोग करना चाहिए। 
  • किसान भाइयो Pseudomonas Fluorescens कवकनाशी का उपयोग ड्रेंचिंग या ड्रिप या बहाव विधि से करना चाहिए मृदाजनित कवक रोगो के नियंत्रण के लिए।

पढ़ें लवणीय एवं क्षारीय भूमि में सुधार करें - हिंदी में 

जैविक कवकनाशी Pseudomonas Fluorescens कवकनाशी के फायदे - 

  • Pseudomonas Fluorescens एक प्राकृतिक जैव-कवकनाशी है। 
  • स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस एंजाइमों और प्रतिपक्षी द्वारा पादप रोगजनकों के हाइप पर कार्य करता है।
  • स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस परजीवीवाद, प्रतिजैविकता और प्रतिस्पर्धा जैसे प्रतिपक्षी अंतःक्रियाओं के संयोजन से सूत्रकृमि और रोगों को नियंत्रित करता है।
  • यह बीज, मिट्टी और हवा में पैदा होने वाली बीमारियों को नियंत्रित करता है। 

यहाँ फसल से फूल & फल झड़ने से बचाने के उपाय पढ़ें!

आपको स्यूडोमोनास फ्लोरेसेंस कवकनाशी in hindi  का लेख पढ़कर कैसा लगा यह हमें कमेंट में बताना न भूलें,और इस लेख को अपने अन्य किसान मित्रों के साथ भी शेयर जरूर करें। धन्यवाद 

कमेंट करें

बेस्ट रिजल्ट के लिए बेस्ट जोडी