fruit borer control in hindi

लार्गो कीटनाशक से करें फल छेदक कीटों का खात्मा।

नमस्कार किसान भाइयों आज के लेख में हम फल छेदक कीट के बारे में चर्चा करेंगे क्योंकि फल छेदक कीट की समस्या एक बहुत ही व्यापक समस्या है। फल छेदक कीट का आक्रमण फलों की अवस्था पर होता हैं जिससे किसान को 50% तक उपज का नुकसान देखने को मिलता है। फल छेदक कीट का आक्रमण बैगन, टमाटर,  मिर्च, भिंडी, चना, कपास, अनार, अमरुद, अरहर, मटर, सूरजमुखी आदि फसलों में देखने को मिलता है। 

आज के लेख में हम जानेंगे फल छेदक कीट की पहचान, उपयोग विधि, छिड़काव की मात्रा आदि के बारे में तथा किस तरह से फल छेदक कीट का नियंत्रण धानुका कंपनी के लार्गो कीटनाशक (dhanuka largo insecticide) से करें आदि के बारे में विस्तार से जानेंगे। 

फसल के फल छेदक कीट का नियंत्रण | fruit borer control in hindi 

अब हम फल छेदक कीट की पहचान के बारे में विस्तार से जानेंगे तथा किस तरह से फल छेदक कीट का नियंत्रण कर सकते है आदि पर चर्चा करेंगे - 

फल छेदक कीट की पहचान | Fal chhedak keet ki pahchan in hindi 

अब अगर फल छेदक कीट की बात करें तो इस कीट के लार्वा और इल्लियाँ ही फसल को नुकसान पहुँचाती है। फल छेदक कीट के लार्वा सुदृढ़, गुलाबी रंग और भूरे सिर वाला होता है। अब अगर इल्लियों की बात करे तो ये हरे या पीले-भूरे या गुलाबी रंग में दिखाई देती हैं। फल छेदक कीट के लार्वा अंडो से निकलने के बाद तनों व शाखाओं के अग्र भाग में घुस जाती है जिस कारण तने या शाखाओं के अग्र भाग मुरझा कर लटक जाते हैं और फिर बाद में सूख जाते हैं। पौधों पर फल आने पर लार्वा या इल्लियां फलों में छेद बना कर अंदर प्रवेश कर अन्दर घुसते ही कीट छेदों को अपने मल मूत्र से बन्द कर देता हैं।

फसल से फल छेदक कीट का नियंत्रण | fruit borer control in hindi 

किसान भाइयों अब हम फल छेदक कीट के नियंत्रण के लिए उपयोग किए जानें वाले धानुका कंपनी के लार्गो कीटनाशी (dhanuka largo insecticide) के बारे में चार्ट के माध्यम से देखते है - 

उत्पाद का नाम

धानुका लार्गो कीटनाशी

तकनीकी नाम 

स्पाइनेटोरम 11.7% एससी

लक्षित कीट 

थ्रिप्स, बॉलवॉर्म, फॉल आर्मीवर्म, फ्रूट बोरर

छिड़काव मात्रा/एकड़ 

180 - 200 मिली प्रति एकड़।

प्रमुख फसलें 

कपास, सोयाबीन, मिर्च

क्रिया विधि 

लार्गो गतिविधि का एक व्यापक स्पेक्ट्रम है। 

 

लार्गो कीटनाशी का डोज़ | largo insecticide dhanuka dose 

अब हम धानुका कंपनी के सबसे अच्छे कीटनाशक लार्गो के उपयोग और डोज़ के बारे में विस्तार से जानेंगे 

  • अब अगर डोज़ की बात करे तो लार्गो कीटनाशक को प्रति एकड़ 180 मिली प्रति 150 से 200 लीटर पानी में मिलाकर फसल पर छिड़काव करना चाहिए। 
  • अगर किसान भाइयों आप प्रति लीटर पानी के हिसाब से उपयोग करना चाहते हैं तो 0.9-1 मिली को प्रति लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए। 

लार्गो कीटनाशक के कार्य | largo insecticide dhanuka ka work 

  • लार्गो कीटनाशक पत्तियों की निचली सतह पर पौधों में छिपे हुए कीटों को नियंत्रित करता है।
  • लार्गो कीटनाशक में गतिविधि का एक व्यापक स्पेक्ट्रम है जो कीट विकास के कई चरणों के खिलाफ बहुत प्रभावी है।
  • लार्गो कीटनाशक फायदेमंद कीटों के लिए बहुत सुरक्षित है।
  • यह पेट के जहर और संपर्क द्वारा सक्रिय होता है और कीटों को तेजी से ख़त्म करता है।

आज के लेख में आपको धानुका लार्गो कीटनाशक के उपयोग से फसल में फल छेदक कीट नियंत्रण पर यह लेख पढ़कर कैसा लगा यह हमें कमेंट में बताना न भूलें और इस लेख को अपने अन्य किसान मित्रों के साथ भी शेयर करें। धन्यवाद! 

कमेंट करें


होम

फसल जानकारी

प्रीमियम

केटेगरी

आर्डर